New Post

New Post

जग के प्रपंचों से थका

New Post

हे प्रभु

New Post

New Post

New Post

हार शायद यही है

New Post

क्यूँ राह में आधी डगर पे

New Post

संकीर्ण सिमटती गलियों में

संकीर्ण सिमटती गलियों में

New Post

द्वितीय सर्ग



New Post